बंदूक लाइसेंस ऑनलाइन

बड़ी चाची की चुदाई

बड़ी चाची की चुदाई, वेरी स्ट्रेंज. मैं उसका सीनियर हूँ, अंदर बुला रहा हूँ और वो टाल कर चला गया. शायद उसने फोन पर मेरी बाते सुन ली. रोहित सोच में पड़ गया. शोभा ने यह कहकर कि ऐसा कुछ नही है, बाद मे बताऊँगी, बात बदल दी. नेहा ने एक दो बार फिर पूछा, फिर मचल कर शोभा को धकेलकर बेडरूम ले गयी. चलो मम्मी, मुझसे रहा नही जा रहा है, मेरी ये दुश्मन, ये जो मेरी टाँगों के बीच है, बहुत सता रही है, रो रही है बेचारी, इसे दिलासा दो

इस बार उसका जबाब जल्दी आया. अगले दिन मैने किताब में अपने प्रश्न चिन्ह के आगे एक तीर का निशान देखा, उस तीर के दूसरे सिरे पर एक और प्रश्न चिन्ह बना हुआ था. उस प्रश्न चिन्ह को देख मुझे लगा जैसे वो मुझसे पूछ रही हो मगर......मगर क्या? पागल हो क्या, ही ईज़ मॅरीड ओर अगर लव अफेर चल रहा होता तो तुम अपना ये ब्लॅकमेलिंग डिक डाल कर नही पड़े होते मेरे अंदर. ही ईज़ जस्ट टाइम पास.

शोभा ने उसकी चूत खोल कर एक उंगली अंदर डाली और अंदर बाहर करते हुए बोली प्राची डार्लिंग, बड़ी टाइट है तेरी ये चूत, मुझे लगा था कि तेरे पति ने पूरी ढीली कर दी होगी बड़ी चाची की चुदाई गौरव मन मे कहता हुआ..... यार, मैने अपना दिल रख दिया इसके सामने, पर जिद्दी लड़की, इसे तो बस मेरी बेबसी की कहानी मे इंटरेस्ट है, बता दे क्रेज़ीबॉय, नही तो रूठ कर भाग गयी तो फिर आज जागना पर सकता है

बीएफ सेक्सी मां बेटे का

  1. अब इस बेसबॉल बॅट से पीट-पीट कर मैं तुझे जहन्नुम पहुँचा दूँगा. चल कुत्ते की तरह पिटने के लिए तैयार हो जा. पागल कुत्तो को ऐसे बेसबॉल बॅट की मार की ही ज़रूरत होती है. राज शर्मा ने कहा.
  2. सैली को ना जाने क्यों, पर नेनू की बातें टॉंट ही लग रही थी, और जब ऐसा लगा तो चिड़ी सी आवाज़ मे कहने लगी..... कुछ नही नेनू, क्रेज़ीबॉय आज नही आया क्या ? आर्यन का अर्थ क्या होता है
  3. चिंता मत कर, ये होटेल बिल्कुल सेफ है...ज़रूर कोई बेवकूफ़ वेटर होगा...तू मूवी पर ध्यान लगा...मैं अभी आता हूँ राज ने अपने मूह पर उंगली रख ली. संगीता ने उसकी तरफ देखा तो उसने गर्दन हिला कर इसारे में पूछा, 'अब ठीक है'
  4. बड़ी चाची की चुदाई...श्रयलीन... चुप कर मोटू मेरे अरमानो पर यहाँ पानी फिर गया और तुझे मज़ाक सूझ रहा है. रोक जल्दी, बाइक रोक. प्राची को बाहों मे लेकर फिर से बिस्तर पर लेट गयी. बाकी बचे दो दिन दोनो पड़ोसन मौका मिले तब मिलकर इसी तरह कामदेव की पूजा करती रही. आख़िर शनिवार का दिन आया. नेहा उसी दिन वापस आने वाली थी.
  5. Well ये कोई नै बात नहीं थी ...मैं उन्हें बस अपने बच्चे का वास्ता देता रहा था और वो बात मान जाया करती थीं| खेर पिताजी और माँ के आने तक हम दोनों सोते रहे| वासू की बात सुन कर अनु की आँखें बड़ी हो गयी, कार को तुरंत सड़क की साइड मे किया, और वासू की ओर लेफ्ट घूमते हुए ...

अश्विनी हॉस्पिटल सोलापूर

समधन जी...छोटी सी गलती? अगर आप इसे अपनी बेटी मानती हैं तो ये हमारा बेटा है...और आपकी बेटी की वजह से मेरा बेटा इस समय बी बेहोश पड़ा है... सिर्फ और सिर्फ इसकी वजह से! पिताजी ने मुझ पर गरजते हुए कहा|

वैसवी, नीमा के साथ मार्केट के लिए निकल गयी. कार की पिच्छली सीट पर बैठ कर वैसवी केवल कार और नीमा की ओर ही देखे जा रही थी. उन आँखों ने आज सपनो पिरोने शुरू कर दिए थे, जो रंग नीमा का था उसी रंग मे अब वैसवी भी रंगना चाहती थी. पर ये तो बस चाहत ही थी. अब वो अपने ससुर के लौदे को अलग नज़रों से देखती थी. जब चान्स मिलता पाजामा मे क़ैद उनके लंड को ध्यान से देखती और समझने की कोशिश करती कि वो टाइट है या सोया हुआ है.

बड़ी चाची की चुदाई,कैसे दे दूं एक बार और....तुमने पूरी दोपहर मार मार कर सूजा दी है........... माँ मेरी कमीज़ के बटन खोलती बोली.

मैं: हम दोनों का नहीं हम सब का है...प्लानिंग तो कर चूका हूँ ... अब बस प्लान को अंजाम देना बाकी है| और आज रात कोई नहीं सोने वाला!

तुमने ये नही बताया कि तुम वक्त से पहले कैसे पहुँच गये. ट्रेन तो अक्सर लेट हो जाती है तुम तो एक घंटा पहले ही घर भी पहुँच गये. मोनिका ने कहा.स्वप्नात उंदीर दिसणे

जब मैं सुरिंदर के घर में थी तो मुझे घर के पीछे कुछ आहट सुनाई दी थी. मैने इस बारे में सुरिंदर को बताया भी था. लेकिन उसने ध्यान नही दिया. सब कुछ मेरे जाने के बाद हुआ. चुप कर साली. मुझे तेरे जैसी कॉलेज गर्ल्स बहुत पसंद है. अभी कुछ दिन पहले एक कॉलेज गर्ल की अच्छे से ली थी. वाह क्या मज़ा दिया था उसने. तू भी मज़े कर आज अपने जनमदिन पर. मरने से पहले थोड़ा मज़ा कर लेगी तो तेरी आत्मा को शांति मिलेगी हाहाहा.

मगर लाइट जला कर जैसे ही वो मुड़ा उसके पाँव के नीचे से ज़मीन निकल गयी. ड्रॉयिंग रूम के बीचो बीच एक कुर्सी पर पिंकी बैठी थी बिना कपड़ो के. उसके हाथ बँधे हुए थे. उसके बिल्कुल पीछे एक नकाब पोश खड़ा था जिसने की पिंकी के सर पर बंदूक तान रखी थी.

अर्रे सुनिए तो मिस, कम से कम अपना नाम ही बताते जाइए, जबतक आप से दोस्ती नही होती तबतक आप के नाम को ही जपा करेंगे, शायद तपस्या के बाद जैसे भगवान मिल जाते हैं, आप भी मिल जाएँ,बड़ी चाची की चुदाई ऐसी नींद कभी नही आई जींदगी में. आने वाली जींदगी बहुत हसीन नज़र आ रही है मुझे. थॅंक यू पद्‍मिनी मेरी जींदगी में आने के लिए.

News