वेलेंटाइन डे क्या है

नंगा नंगा नंगा नंगा

नंगा नंगा नंगा नंगा, अब बहुत देर मारूंगी आंटी आपकी, पिछली बार तो कंट्रोल नहीं किया मैंने पर अब चोद चोद कर आपकी ना ढीली कर दी तो देखिये मेरी गर्दन को बेतहाशा चूमते हुए ललित बोला. सॉरी,आपको मारा मैने.,रंभा की आँखो मे अभी भी नशे के डोरे दिख रहे थे,..मगर आपने मुझे ऐसे प्यार किया,जैसे कभी किसी ने नही किया है..& मैं वो खुशी झेल नही पाई थी.,बात समझते ही देवेन के होंठो पे मुस्कान आ गयी & उसने उसे गले से लगा लिया,आइ लव यू.

हां वो दिखाओ..,दोपहर के 12 बजे डेवाले के नेहरू मार्केट मे भीड़ होने लगी थी,..इस मार्केट मे हर समान की दुकाने थी & कॉलेज जाने वाले लड़के-लड़की यहा कपड़े खरीदने के लिया खूब आते थे.रंभा 1 दुकान मे टँगे 1 स्कर्ट को देख रही थी. खाना खा कर मैं वापस छत पर जाकर सिगरेट पीने लगा और यह सोच कर और भी खुस हो रहा था कि मैने संगीता के होंठ चूम लिए लेकिन उसने मम्मी से कुच्छ नही कहा, उस रात मैं रात भर अपनी कल्पनाओ मे अपनी बहन की मस्त जवानी से खेलता रहा, और अपनी बहन को पूरी नंगी देखने के लिए मेरा मन तड़पने लगा,

वो कल बताऊंगी आने के बाद. चलो अब मुंह लटका के न बैठो मुझे चूम के प्यार से बोली ये रिश्ते तो निभाने ही पड़ते हैं. आज बड़े घर जाना ही है, कल पूरा दिन है फ़िर से, तब खातिरदारी करवा लेना. अब एक घंटे में तैयार हो जाओ सब फटाफट, मां तो एक घंटे पहले ही गयी भी, बोल कर गयी थी कि सब जल्दी आना नंगा नंगा नंगा नंगा बुआ- अरे मेरी रंडी भाभी तू चिंता मत कर तेरी मोटी गंद को तेरे बेटे रोहित से ना चुदवाया तो कहना आह आह ओह भैया आह मर गई रे,

গুদমারামারি দেখব

  1. क्यों जीजाजी, आराम हो गया? हम तो राह ही देख रहे थे आपके उठने की. राधाबाई आज आपको नाश्ता कराके आयीं तो इतनी थकी लेग रही थीं पर एकदम खुश थीं. हमें डांट कर कह गयीं कि जमाईराजा को आराम करने देना, उठाना नहीं. लगता है आप ने बहुत इंप्रेस कर दिया है उनको ललित को दूध पिलाते हुए मीनल बोली.
  2. विजयंत ने दूर खड़े इंसान को वो कपड़ा फेंकते देख सोचा की वो वो पॅकेट उसकी ओर फेंका रहा है.वो आगे बढ़ा & उस पॅकेट को उठाया & उसे खोल के देखा.अंदर खून के धब्बो वाली 1 कमीज़ थी. কলকাতার এক্স এক্স
  3. हा मनु.....ह्म्‍म्म्मममम ....ह्म्‍म्म्मम आइ......ल्ल्ल्लोवे. .. उउउ वेरी मच... मैं तुम्हारी हू मेरा शरीर तुम्हारा है मेरी आत्मा तुम्हारी है.......मनुव्व मुझे अपने मे समा लो.... प्ल्ज़्ज़ मनु.... मेरे को ना जाने क्या हो गया है मुझे नही पता... क्यों जीजाजी, आराम हो गया? हम तो राह ही देख रहे थे आपके उठने की. राधाबाई आज आपको नाश्ता कराके आयीं तो इतनी थकी लेग रही थीं पर एकदम खुश थीं. हमें डांट कर कह गयीं कि जमाईराजा को आराम करने देना, उठाना नहीं. लगता है आप ने बहुत इंप्रेस कर दिया है उनको ललित को दूध पिलाते हुए मीनल बोली.
  4. नंगा नंगा नंगा नंगा...मेरी बातों ने वंदना को इतना खुश कर दिया कि वो चहक उठी और उसने मुझे पकड़ कर सीधा मेरे होठों पे चूम लिया। जब उसने मुझे चूमा तब बाहर से किसी ने हमें देख लिया और वंदना ने भी यह देखा कि कोई हमें देख रहा है। छ्चोड़ो ना,सोनिया.क्या करोगी जान के?,विजयंत ने जान बुझ के नाटक किया था.कल रात को सोनिया से हुई बात से उसे इतना तो समझ आ गया था कि वो ब्रिज को इस सब के पीछे का दिमाग़ समझ रही थी & इस बात से पति से दुखी भी थी.यही तो उसे चाहिए था.ब्रिज की बर्बादी तो उसका बहुत पुराना सपना था.
  5. मैने डोर ओपन किया तो सामने मामू खड़े थे.. मामू ने मुझसे खाला के बारे मे पूछा तो मैने किचन की तरफ इशारा कर दिया... मामू ऑर मैं किचन मे आए तो खाला चाय बना रही थी.... हां..,शिप्रा & प्रणव भी वाहा आ गये थे,..आज सिर्फ़ शाम की पार्टी की प्लॅनिंग करोगे तुम.,समीर बेहन-बहनोई से भी गले मिला & फिर पूरा परिवार हॉल मे बैठ के बातें करने लगा.

भाई बहन की सुहागरात

बहुत याद आ रही है मेरी?,रंभा ने सवाल तो ऐसे किया कि समीर को लगे कि वो उसे छेड़ रही है मगर उसके चेहरे पे गुस्सा था.

बाहर निकालता है तो कामिनी छुप कर उसके मोटे लंड का नज़ारा करके पागल हो जाती है और उसकी चूत रामू के लंड के लिए तड़प उठती है, मेरी रानी, तू तो फ़ुल साड़ी में है अब तक. कपड़े तो निकाल मैंने पोज़िशन लेते हुए कहा. एक बार और मख्खन उंगली पर लेकर मेरी गांड में उंगली डालता हुआ ललित बोला साड़ी नहीं निकालूंगा जीजाजी, साड़ी ऊपर कर के ऐसे ही आप को चोद लूंगा. एकदम सेक्सी लगेगा. जरा आइने में तो देखिये

नंगा नंगा नंगा नंगा,कुच्छ देर बाद मैने देखा मम्मी की चूड़ियो की आवाज़ ज़ोर ज़ोर से आने लगी थी क्यो कि मम्मी अब अपनी चूत मे

रामू- मा तुम्हे चूसना हो तो तुम्हे भी चूसा सकता हू, उसकी बात सुन कर निम्मो ज़ोर-ज़ोर से हस्ती हुई बाहर चली जाती है

राज- क्या हुआ बेटी क्या तुझे उत्तेजना महसूस हो रही है, सुधिया अपने सूखे गले से थूक गटकते हुए अपनी जीभರಮೇಶ್ ಜಾರಕಿಹೊಳಿ ಸೆಕ್ಸ್ ವೀಡಿಯೊ

1 बजे वो शख्स समझ गया कि विजयंत आज रात वही रुकने वाला है.उपरी मंज़िल के कमरे की बत्ती अभी भी जल रही थी..या तो घर मे मौजूद दोनो मे से कोई 1 शख्स अपनी परेशानी की वजह से सो नही पा रहा है या फिर किसी 1 को बत्ती जला के सोने की आदत है..उसने सिगरेट का टोटा फेंका & कार वाहा से आगे बढ़ा दी. मनोहर -क्यो नही तुम इतनी मस्त चोदने लायक लगती हो कि तुम्हारे बेटे का लंड भी तुम्हे देखते ही खड़ा हो जाता होगा, और तो और तुम्हारा बेटा तो तुम्हे अपने ख़यालो मे ही कई बार पूरी नंगी करके चोद चुका होगा, तुम्हे मालूम नही अपनी मम्मी को चोदने मे बेटो को कितना सुख मिलता है,

चोकी मेरा लंड तना हुआ था और मुझे लग रहा था कि शायद चुदाई हो तो कही जल्दी ना झाड़ जाऊ इसलिए मैं बाथरूम मे गया और मूठ मारकर वापिस आ गया ....

हरिया- अरे बेटवा इन चीज़ो से किसी का कभी मन भरा है भला, अब तुमका देखो इस उमर मे तुमका एक मस्त चूत मिल जाना चाहिए तो तुम्हारे चेहरे पर कुछ निखार आए पर तुम हो की बस काम के बोझ के तले दबे जा रहे हो,,नंगा नंगा नंगा नंगा सुधिया पूरी तरह मस्ताने लगी थी और खूब ज़ोर ज़ोर से बिना किसी डर के सीसीयाने लगी थी, मैं भी पूरी मस्ती के

News