हेमा मालिनी sex

केसरी राशन कार्ड के फायदे

केसरी राशन कार्ड के फायदे, विजय- वो साला कहाँ रह गया.. ऐसे तो बड़ा बोलता था एक बार मैं गेम में आ जाऊँ.. तो ऐसा कर दूँगा.. वैसा कर दूँगा.. अब गाण्ड फट गई क्या उसकी? ओह आईसीईईईईईईईईईईई बातेन्ंनननननणणन् नाआआआआअ करो सायराआआआआ मेरे अल्फ़ाज़ की गर्मी और ज़ुबान और हाथ की मस्ती के अहसास से मचलते हुए यासिर ने सिसकार्टे हुए मेरी तरफ देखा और बोला.

इस ज़बरदस्त चुदाई के असर की वजह से मेरे ट्टटों में मेरे लौड़े का रस इस वक़्त इतने ज़ोर से उबल रहा था कि मैं अब किसी भी वक़्त अपने लौड़े का रस अपनी बहन की चूत में छोड़ सकता था | रिंकी बड़े मज़े से अपनी आँखें बंद किये हुए मेरे सर पर अपना हाथ फेरती रही और मादक सिसकारियाँ निकालती रही।

मोड़ कर बैठ जाती है और जैसे ही अवी की नज़र शालिनी की दोनो जंघे के जड़ मे पहुचती है उसका लंड एक दम से झटके केसरी राशन कार्ड के फायदे मैंने कुर्सी से उठ कर उसका स्वागत अपनी बाहें फैला कर किया और उसने इधर उधर देख कर यह सुनिश्चित किया कि कहीं कोई देख न रहा हो और वो भाग कर मेरी बाहों में समां गई, उसके हाथों से किताबें छूट कर नीचे गिर गईं और हम दोनों एक दूसरे से ऐसे लिपट गए जैसे कई जन्मों के बिछड़े प्रेमी हों।

सुहागरात कैसे बनाया जाए

  1. अमृता-लाओ मेरे हाथ में दो अपना लंड तो मै बताती हूँ क्या हुआ? इतनी देर से तडपा रहे हो | बार बार कह रही हूँ घर जा कर कर लेना जो करना है, मानते ही नहीं |लाओ निकालो, मै बताती हूँ क्या हुआ?
  2. अब मैंने भी ज़ाकिया के हाथ के मज़े से होते हुए अपने हाथ को निचे ले जाकर शलवार के ऊपर से ही ज़ाकिया की गरम चूत को अपनी मुट्ठी में दबोचा तो स्वाद के मारे वो भी अपने मुँह से ओह हाईईईईईईईईईईई की आवाज़ें निकालने लगी | कैसे बनाते हैं दिखाओ
  3. मेरे अंगूठे ने उनके उस हिस्से को छू लिया था जिसके छूने पर बड़े से बड़ी पतिव्रताएं भी अपना संयम खो बैठती हैं और अपनी चूत में लंड डलवा लेती हैं… उनके दाने को मेरे अंगूठे ने रगड़ सा दिया था। काजल ने उसको कहा कि वो सच बोल रही है.. उसके बाद रात की पूरी बात बताई.. जिसे सुनकर रश्मि के होश उड़ गए।
  4. केसरी राशन कार्ड के फायदे...मैं आज एक बार अपनी ही बहन की जवानी के मुल्त्क ना सिर्फ़ यूँ सोच रहा था बल्कि अपनी बहन की जवानी को सोचते हुए साथ ही साथ अपने लौड़े को भी हाथ में पकड़ कर आहिस्ता आहिस्ता मसलने भी लगा था | ज़ाकिया के होंठो को अपने होंठों से चिपकते हुए महसूस करते ही मुझे होश आया तो मैं भी ज़ाकिया के गुंदाज जिस्म को अपनी बाहों में कसते हुए उसके लबों को चूमने लगा |
  5. उधर बाहर साजन अपने दोस्तों के साथ रश्मि का इन्तजार कर रहा था और उससे कुछ दूरी पर साजन के भाड़े के गुंडे भी खड़े उसके इशारे का इन्तजार कर रहे थे। साजन- भाई बुरा मत मानना.. वैसे तो आप बहुत माइंड वाले हो.. मगर पैसे देते टाइम मैंने आपकी पिक देख ली थी और ये पहली बार होता तो शायद में कन्फ्यूज ही रहता.. मगर पहले भी अक्सर पार्टी में मैंने आपके पर्स में ये पिक देखी हुई थी.. तो बस में फ़ौरन समझ गया कि ये आप हो।

हेलो एप डाउनलोड करें

हुए यह सोचती है कि पता नही अवी ऐसी बाते क्यो कर रहा है जबकि उसका दिल सच्चाई के काफ़ी करीब होता है और वह अवी

अवी- उसको गुस्से से अपनी ओर घूरता हुआ देख कर, धीरे से उसकी जाँघ पर अपना हाथ रख कर, मुस्कुराता हुआ, मुझे क्या पूरी रात की ज़ोर दार चुदाई की वजह से मेरा पूरे जिस्म अंग अंग दर्द कर रहा था.और मेरी चूत और ख़ास तौर पर मेरी गान्ड का तो और भी बुरा हाल था.

केसरी राशन कार्ड के फायदे,उस वक़्त मुझे सच में इस बात का एहसास हुआ कि मैं प्रिया से कितना प्यार करने लगा था… यूँ तो मैंने रिंकी को भी अपनी बाहों में भरा था और कहीं न कहीं आंटी के लिए भी मेरे मन में वासना के भाव थे लेकिन भगवान के सामने सर झुकाते ही मुझे सिर्फ और सिर्फ प्रिया का ही ख्याल आया।

इस शरारत का असर यह हुआ कि मिठाई तो मेरे मुँह में समां गया लेकिन उसका रस मेरे सीने पे गिर गया। आंटी ने ऐसी शक्ल बनाईं जैसे उन्होंने यह जानबूझकर नहीं किया.. बस हो गया। मैंने उनकी आँखों में ऐसे देखा जैसे मैं उन्हें डाँट रहा हूँ और उन्हें सजा देने की सोच रहा हूँ।

रानी- आह्ह.. हाँ बाबूजी.. आह्ह.. मज़ा तो बहुत आ रहा है.. लेकिन अन्दर मत डालना.. नहीं तो मैं मर जाऊँगी..रेडियो की खोज किसने की थी

शालिनी- मैं शादीशुदा औरत बाद मे हू पहले तुम्हारी दोस्त हू और तुम्हारी जानकारी के लिए बता दू मुझे पोर्नोग्रफी अभी मैं संध्या के बारे में यह सब कुछ सोचते हुए गर्म हो रहा था कि इतने में ज़ाकिया की कही हुई एक बात दुबारा से मेरे कानों में गूंज उठी कि अफ़ताब तुम्हारी बहन अब बच्ची नही कि इन बातों को ना समझ सके |

जय- आह्ह.. तेरे हाथ भी कमाल के हैं लंड को छूते ही इसमें करंट पैदा हो जाता है.. देख ये कैसे अकड़ने लग गया है..

असल में विनोद की बात को मानते हुए उस पर अमल करने की वजह ये थी. कि अपनी जिन्सी हवस और विनोद की दिलकश शक्सियत के सहर में खो कर मेरी हालत अब एक कठ पुतली जेसी हो गई थी. जिसे विनोद अब अपने इशारों पर नचाने लगा था.,केसरी राशन कार्ड के फायदे विनोद ने अपने हाथ के अंगूठे को मेरी सील बंद गान्ड के सुराख के ऐन उपर ज़ोर से दबाते हुए मुझ से ये बात कही. तो में विनोद की बात और उस के मोटे उंगुठे को अपनी गान्ड के सुदख पर महसूस करते हुए में अपनी गान्ड को ज़ोर से विनोद के लंड पर मारने लगी थी.

News